Home > स्त्री विमर्श > आर्थिक समीक्षा: कृषि क्षेत्र में बढ़ी महिलाओं की हिस्सेदारी

आर्थिक समीक्षा: कृषि क्षेत्र में बढ़ी महिलाओं की हिस्सेदारी

PHOTO: PRABHAT PANDEY

पुरुषों के शहरों की तरफ पलायन करने के बीच देश में कृषि कार्य में महिलाओं की हिस्सेदारी लगातार बढ़ी है. केंद्रीय वित्त मंत्री अरूण जेटली द्वारा सोमवार को संसद में पेश आर्थिक समीक्षा 2017-18 में यह निष्कर्ष निकाला गया है.

समीक्षा में कहा गया है, ‘‘पुरूषों के गांव से शहर की ओर पलायन की वजह से कृषि क्षेत्र में महिलाओं की हिस्सेदारी बढ़ रही है. विभिन्न कृषि कार्यों में महिलाएं विभिन्न भूमिकाओं में नजर आ रही है.’’

इसके अनुसार वैश्विक स्तर पर देखा गया है कि महिलाओं ने खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित करने में बड़ी भूमिका निभाई है. ग्रामीण महिलाओं ने विभिन्न तरीके के प्राकृतिक संसाधनों का इस्तेमाल करते हुए प्रबंधन का एकीकृत ढांचा विकसित किया है जिससे रोजमर्रा की जरूरतें पूरी की जाती हैं.

समीक्षा के अनुसार अब जमीन, पानी, ऋण और प्रौद्योगिकी तक महिलाओं की पहुंच बढ़ाई जाए. इसमें कहा गया है कि हमारे देश की स्थिति देखते हुए ग्रामीण महिलाओं को कृषि को लेकर प्रशिक्षण दिए जाने की जरूरत है.

इसके अनुसार महिला किसानों को अधिकार दिलाने को लेकर सरकार ने कई कदम उठाए हैं. इनमें सभी योजनाओं, कार्यक्रमों और विकास संबंधित गतिविधियों में किए जाने वाले आवंटन में 30 प्रतिशत महिलाओं के लिए सुनिश्चित किया गया है.

इसी तरह लाभदायक कार्यक्रमों, योजनाओं, महिला केंद्रित गतिविधियों पर जोर दिया जा रहा है. क्षमता विकास गतिविधियों और छोटी बचत के जरिए महिला स्वयं सहायता समूह पर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है.

इसमें कहा गया है कि कृषि में महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका को मान्यता देते हुए कृषि व किसान कल्याण मंत्रालय ने हर साल 15 अक्तूबर को ‘महिला किसान दिवस’ मनाने की घोषणा की है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *