Home > महास्त्री > वीरांगना उदा देवी: अंग्रेजों ने भी जिसे माना ‘ब्लैक टाइग्रैस’

वीरांगना उदा देवी: अंग्रेजों ने भी जिसे माना ‘ब्लैक टाइग्रैस’

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में महिलाओं ने भी उसी तरह की भूमिका निभाई है, जैसा कि पुरुषों ने, लेकिन पुरूषवादी समाजिक मानसिकता ने इसे छिटपुट तरीके से ऐसे पेश किया जैसे महिलाओं का योगदान नाम मात्र का वो भी पुरुषों की कृपा से रहा है. इतिहास के पन्ने  कुरेदकर कुछ वैसी महिलाओं के योगदान की चर्चा नारी उत्कर्ष में की जा रही है, जिनके योगदान को अपेक्षित जगह नहीं मिल पाई. इस बार पेश है महास्त्री उदा देवी के योगदान पर यह आलेखः

भारतीय स्वतंत्रता संघर्ष कोई अचानक उत्पन्न प्रकिया नहीं थी. यह संघर्ष अंग्रेजों के विरुद्ध क्रमिक रूप से विभाजित हुआ. यद्यपि कुछ अंतरालों में ज्वार की भांति कुछ घटनाएं घटतीं और फिर भाटे की तरह वह उभार समाप्त होता, मानों सब कुछ शांत हो गया. किंतु यह शांति अपने भीतर क्षोभ को पाल रही होती थी और फिर एक विस्फोट के साथ पुनःवातावरण में गर्मी आ जाती और भारतीय जन मानस उद्वेलित हो उठता.

भारत में यूरोपियों का आगमन व्यापारियों के रूप में हुआ किंतु दो शताब्दियों के भीतर यूरोपियों में से अंग्रेज सशक्त होकर उभरे और विभिन्न रूढ़ीयों में बंधा तथा जाति-पाति में बिखरा भारतीय समाज इन अंग्रेजों का सामना नहीं कर पाया और दासता की एक लम्बी दास्तां का प्रारम्भ हो गई. इतिहास प्रायः इस मान्यता से ही परिचालित होता रहा कि अंग्रेजों के विरुद्ध केवल उच्च वर्ग ने ही तीव्र प्रतिक्रिया की और वह तबका जो तत्कालीन समाज में निम्न जाति कहलाता था, चेतना के अभाव में शोषण को ही अपनी नियति मान बैठा. यही नहीं संघर्ष को पुरुषों की ही बपौति माना गया. किन्तु इतिहास की पड़ताल कुछ और ही हकीकत प्रस्तुत करती है.

संघर्ष की भावना निम्न वर्ग में भी रची बसी थी और देखा जाए तो यह निम्न वर्ग तथाकथित उच्च वर्गों से अधिक अपनी मान्यताओं से जुड़ा था और इनके संघर्ष कहीं अधिक तीव्र होते थे. इस वर्ग में पुरुषों के अतिरिक्त महिलाओं ने तमाम बाधाओं और उपेक्षाओं के बावजूद यह सिद्ध किया कि नारी पुरुषों से भी अधिक क्षमतावान होती हैं. इसी क्रम में वीरांगना उदा देवी ने अप्रतिम वीरता का परिचय देते हुए ऐसे प्रतिमान स्थापित किए, जो इतिहास में विरले ही दिखाई पड़ते हैं.

उदा देवी का जन्म लखनऊ के समीप स्थित उजिरावां गांव में पासी परिवार में हुआ था. भारतीय समाज में विभिन्न जातियों के अन्तर्गत पासी जाति भी निम्न व अछूत ही समझी जाती थी. पासी जाति की सामान्य समाज से अलग क्षेत्र में बस्ती होती थी. इन बस्तियों में उच्च जाति के लोग प्रायः नहीं जाया करते थे. पासी समाज सीमित स्तर पर हस्तकलाओं द्वारा अपना जीवन यापन करता था अथवा उच्च समृद्ध लोगों के खेत में कृषक मजदूर के रूप में भी कार्य किया करता था. जब जीवनयापन के स्रोत सीमित हों और आस्तित्व की रक्षा प्रमुख चुनौती होती है तो वीरता और आत्मस्वाभिमान स्वतः ही आ जाता है.

पासी जाति भी इसका अपवाद नहीं थी. यह जाति वीर और लड़ाकू जाति के रूप में भी जानी जाती थी. इसी वातावरण में उदा देवी का पालन-पोषण हुआ. जिसे इतिहास की रचना करनी होती है, उसमें कार्यकलाप औरों से न चाहते हुए भी अलग हो ही जाते हैं. उदा बचपन से ही निर्भीक स्वभाव की थीं. बिना किसी झिझक के घने जंगलों में अपनी टोली के साथ खेलने चली जाती थीं. खेल भी क्या थे, पेड़ पर चढ़ना, छुपना और घर लौटते समय जंगल से फल और लकड़ियां एकत्रित करके लाना.

जैसे-जैसे उदा बड़ी होती गई, वैसे-वैसे वह अपने हमउम्रों का नेतृत्व करने लगी. सही बात कहने में तो उदा पलभर की भी देर नहीं करती थी. अपनी टोली की रक्षा के लिए तो वह खुद की भी परवाह नहीं करती थी. खेल-खेल में ही तीर चलाना, बिजली की तेजी से भागना उदा के लिए सामान्य बात थी.

किशोरावस्था में प्रवेश करते-करते उदा में गम्भीरता का समावेश होने लगा. पढ़ना-लिखना उस समय असामान्य सी बात थी अतः उदा भी इससे दूर रही किंतु परिस्थितियों ने उसे शीघ्र निर्णय लेने वाली, साहसी, दृढ़ निश्चयी और कठोर हृदय वाला बना दिया था. आगे चलकर यही गुण उदा को इतिहास में उच्च स्थान दिलाने वाले थे.

सन् 1764 ई. भारतीय इतिहास में निर्णायक वर्ष था. इसी वर्ष अंग्रेजों ने बंगाल में नवाब मीर कासिम, अवध में नवाब शुजाउद्दौला और मुगल बादशाह शाह आलम की संयुक्त सेना को परास्त कर अपनी श्रेष्ठता सिद्ध कर दी थी. इस युद्द के बाद अवध भी अंग्रेजों की परोक्ष सत्ता के अधीन आ गया और अंग्रेजों ने अवध को निचोड़ना शुरू कर दिया जिससे उसकी स्थिति दिन-ब-दिन जर्जर होती गई. सन् 1856 में अवध का अंग्रेजी राज्य में विलय कर लिया गया और नवाब वाजिद अली शाह को नवाब के पद से हटा कर कलकत्ता भेज दिया गया. सन् 1857 ई. में भारतीयों ने अंग्रेजों के खिलाफ स्वतंत्रता का बिगुल बजा दिया. इस समय अवध की राजधानी लखनऊ थी और वाजिद अली शाह की बेगम हजरत महल और उनके अल्पवयस्क पुत्र बिरजिस कादिर ने अवध की सत्ता पर अपना दावा ठोंक दिया.

अवध की सेना में एक टुकड़ी पासी सैनिकों की भी थी. इस पासी टुकड़ी में बहादुर युवक मक्का पासी भी था. मक्का पासी का विवाह उदा से हुआ था. जब बेगम हजरत महल ने अपनी महिला टुकड़ी का विस्तार किया तब उदा की जिद और उत्साह देखकर मक्का पासी ने उदा को भी सेना में शामिल होने की इजाजत दे दी. शीघ्र ही उदा अपनी टुकड़ी में नेतृत्वकर्ता के रुप में उभरने लगी.

10 मई 1857 मेरठ के सिपाहियों द्वारा छेड़ा गया संघर्ष शीघ्र ही उत्तर भारत में फैलने लगा एक महीने के भीतर ही लखनऊ ने भी अंग्रजों को चुनौती दे दी. मेरठ, दिल्ली, लखनऊ, कानुपर आदि क्षेत्रों में अंग्रेजों के पैर उखड़ने लगे. बेगम हजरत महल के नेतृत्व में अवध की सेना भी अंग्रेजों पर भारी पड़ी. किंतु एकता के अभाव व संसाधनों की कमी के कारण लम्बे समय तक अंग्रेजों का मुकाबला करना मुमकिन नहीं हुआ और अंग्रेजों ने लखनऊ पर पुनः नियंत्रण पाने के प्रयास शुरू कर दिए. दस जून 1857 ई. को हेनरी लॉरेंस ने लखनऊ पर पुनः कब्जा करने का प्रयास किया. चिनहट के युद्ध में मक्का पासी को वीरगति की प्राप्ति हुई. यह उदा देवी पर वज्रपात था किंतु उदा देवी ने धैर्य नहीं खोया. वह अपनी टुकड़ी के साथ संघर्ष को आगे बढ़ाती रही.

नवंबर आते-आते यह तय हो गया था कि अब ब्रिटिश पुनः लखनऊ पर कब्जा कर ही लेंगे. भारतीय सैनिक अपनी सुरक्षा के लिए लखनऊ के सिकंदराबाग में छुप गए. किंतु इस समय लखनऊ पर कोलिन कैम्पबेल के नेतृत्व में हमला हुआ. उदा देवी बिना लड़े हार मानने को तैयार नहीं हुई. अंग्रेजी सेना ने सिकंदराबाग को चारों ओर से घेर लिया. उदा देवी सैनिक का भेष धारण कर बंदूक और कुछ गोला बारूद लेकर समीप के एक पेड़ पर चढ़ गई और अंग्रेजों पर गोलियां बरसाने लगी. उदा की वीरता देख शेष सैनिक भी अंग्रेजों पर टूट पड़े. काफी समय तक अंग्रेजों को पता ही नहीं चला कि उन पर कहां से गोलियां चल रही हैं. अंत में कैम्पबेल की दृष्टि उस पेड़ पर गई जहां काले वस्त्रों में एक मानव आकृति फायरिंग कर रही थी. कैम्पबेल ने उस आकृति को निशाना बनाया. अगले पल ही वह आकृति मृत होकर जमीन पर गिर पड़ी. समीप जाने पर कैम्पबेल यह देखकर हैरान रह गया कि यह शरीर वीरगति प्राप्त एक महिला का था.

जब तक उदा देवी जीवित रहीं तब तक अंग्रेज सिकंदराबाग पर कब्जा नहीं कर सके थे. उदा देवी के वीरगति प्राप्त करते ही सिकंदराबाग अंग्रेजों के अधीन आ गया. अंग्रेजी विवरणों में उदा देवी को ‘ब्लैक टाइग्रैस’ कहा गया. दुःख व क्षोभ की बात यह है कि भारतीय इतिहास लेखन में उदा देवी के बलिदान को वो महत्व नहीं दिया गया जिसकी वो अधिकारिणी है. उदा देवी उस वर्ग का प्रतिनिधित्व करती हैं, जिसे अबला कहा जाता रहा है और शायद समाज एक दलित अबला की भारत के प्रथम स्वतंत्रता संग्राम में सबल उपस्थिति को स्वीकार करने के लिए खुद को तैयार नहीं कर पा रहा है.

लेखक: वी. के. त्रिवेदी 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *